Breaking News

श्रीमद् भागवत कथा के प्रभाव से राजा परीक्षित को हुई बैकुंठ की प्राप्ति-पंडित पवन कृष्ण शास्त्री


हरिद्वार / श्री राधा रसिक बिहारी भागवत परिवार सेवा ट्रस्ट के तत्वाधान में एवं महामंडलेश्वर स्वामी रूपेंद्र प्रकाश महाराज के सानिध्य में प्राचीन अवधूत मंडल आश्रम में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के द्वितीय दिवस पर श्रद्धालुओं को कथा का श्रवण कराते हुए भागवताचार्य पंडित पवन कृष्ण शास्त्री ने द्वितीय दिवस की कथा का श्रवण कराते हुए बताया कि सर्वप्रथम सप्ताह कथा के रूप में शुक्रताल में सुखदेव मुनि ने राजा परीक्षित को श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण कराया था। शास्त्री ने बताया कि राजा परीक्षित को जब पता चला कि पृथ्वी पर कलयुग का आगमन हो चुका है तो वे ढूंढते हुए गंगा के तट पर पहुंचे। कलयुग से भेंट होने पर राजा परीक्षित ने कलयुग को पृथ्वी से जाने के लिए कहा। तब कलयुग ने राजा परीक्षित से कहा कि सतयुग, त्रेता युग, द्वापर युग आया अब मैं कलयुग आया हूं, तो मुझे भी रहने के लिए जगह दो। तब राजा परीक्षित ने कलयुग को जहां जुआ खेला जाता हो, जहां पर निरपराध पशुओं की हत्या की जाती हो। जहां शराब पी जाती हो। जहां पराई स्त्री के साथ दुर्व्यवहार किया जाता हो इन चार स्थानो पर कलयुग को रहने के लिए कहा। परंतु कलयुग ने राजा परीक्षित से कहा कि आप के डर से यह चार कार्य आपके राज्य में नहीं होते हैं। इसलिए आप मुझे कोई अच्छा सा स्थान दीजिए। तब कलयुग को रहने के लिए स्वर्ण में वास दिया गया। राजा परीक्षित ने अधर्म से बना हुआ मुकुट जो कि जरासंध राक्षस का था, को धारण कर लिया और उसी में कलयुग जा कर बैठ गया। राजा परीक्षित ने शिकार खेलते हुए वन में समिक मुनि के गले में मरा हुआ सर्प डाल दिया। इस पर समिक मुनि के पुत्र श्रृंगी ऋषि ने राजा परीक्षित को श्राप दिया कि सातवें दिन तक्षक नामक सर्प उन्हें भस्म कर देगा। राजा परीक्षित को जब इस बात का पता चला तो वे अपने पुत्र जन्मेजय को राजगद्दी देकर शुक्रताल गंगा तट पर पहुंच गए। वहां वेदव्यास के पुत्र सुखदेव का आगमन हुआ और सुखदेव ने सात दिनों तक राजा परीक्षित को श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण कराया। जिससे राजा परीक्षित को भगवान के वैकुंठ धाम की प्राप्ति हुई। शास्त्री ने बताया कि तभी से अपना कल्याण चाहने वाले भक्त सप्ताह कथा के रूप में श्रीमद् भागवत का आयोजन करते हैं। इस आयोजन से समस्त मनोकामनाएं पूर्ण कर वे भगवत धाम के अधिकारी बन जाते हैं। कथा के द्वितीय दिवस पर मुख्य जजमान सनी कोहली, सुरुचि कोहली, मीना कोहली, अथर्व कोहली, सुनीता पाहवा, गोविंद पाहवा, मीना कोहली, किरण विग, रजनी नौनिहाल, अशोक नौनिहाल, हर्ष आनंद, प्रदीप वडेरा, अन्नू वडेरा, विपिन वडेरा, पूनम वडेरा, लक्ष्य वडेरा, रियांश वडेरा ने भागवत पूजन कर कथा व्यास से आशीर्वाद लिया।

About Admin

Check Also

मुख्यमंत्री के निर्देश पर सचिव मुख्यमंत्री एवं आयुक्त गढ़वाल द्वारा किया गया यात्रा कार्यालय, ऋषिकेश का निरीक्षण

मुख्यमंत्री के निर्देश पर सचिव मुख्यमंत्री एवं आयुक्त गढ़वाल द्वारा किया गया यात्रा कार्यालय, ऋषिकेश …

जमीन बेचने के नाम पर ₹32,00000/-(32लाख) की धोखाधड़ी करने वाला आरोपी आया पुलिस की गिरफ्त में

कोतवाली ज्वालापुर हरिद्वार पुलिस द्वारा जमीन की धोखाधड़ी के मामले में बडी कार्यवाही जमीन बेचने …

प्रकृति प्रेमियों के लिए 01 जून से खुलेगी फूलों की घाटी

प्रकृति प्रेमियों के लिए 01 जून से खुलेगी फूलों की घाटी संतोष सिंह नेगी, उत्तराखण्ड …

मुख्यमंत्री धामी ने जनता से फीडबैक लेकर, अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री धामी ने जनता से फीडबैक लेकर, अधिकारियों को दिए निर्देश मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली …

चारधाम यात्रा की लगातार मॉनिटरिंग करें अधिकारी : सीएम

चारधाम यात्रा की लगातार मॉनिटरिंग करें अधिकारी : सीएम रजिस्ट्रेशन के अनुसार ही श्रद्धालुओं को …

ब्रह्मलीन श्रीमहंत को संतों, श्रद्धालुओं ने दी श्रृद्धांजलि

ब्रह्मलीन श्रीमहंत को संतों, श्रद्धालुओं ने दी श्रृद्धांजलि लव कुमार शर्मा, हरिद्वार । अखिल भारतीय …

25 मई से शुरू होगी हेमकुंड साहिब और लोकपाल की यात्रा, चमोली डीएम ने 18  किलोमीटर की दूरी पैदल चलकर हेमकुंड यात्रा व्यवस्थाओं का लिया जायजा : देखें वीडियो

चमोली डीएम ने 18  किलोमीटर की दूरी पैदल चलकर हेमकुंड यात्रा व्यवस्थाओं का लिया जायजा …

error: Content is protected !!